Saturday, 20 July 2013

एक एहसास जिंदगी का



एक एहसास जिंदगी का

दे दे मुझे ए खुदा एक एहसास ज़िन्दगी का
सिखा दें मुझे क्या होता है नूर बंदगी का
तेरे लिए ही तो मैं था जिया
ए खुदा तू ने ये क्या किया  
बस कर अब दे भी दे एहसास ज़िन्दगी का

सुन ले मेरी जुस्तजू
सुन ले मेरी आरज़ू
कर दे मुझे पाको फिजा
दे दे मुझे अब मेरी जज़ा
अब मिल भी जाए राजा
दे दे मुझे ए खुदा एक एहसास ज़िन्दगी का
पकीज़ा कर दे ना पता हो गंदगी का
बस कर अब दे भी दे एहसास ज़िन्दगी का




            

No comments:

Post a Comment

Thank You Very Much.
Greatly Obliged You Visited This Blog.
Please visit on a regular basis as it caters all your needs